सर्दी-जुकाम – सर्दी-जुकाम के घरेलू उपाय, लक्षण, कारण व बचाव। Sardi-jukam in Hindi

Spread the love

सर्दी-जुकाम (Common Cold) एक प्रकार की सामान्य समस्या है जो उपरी श्वसन तंत्र (upper respiratory tract) में होती है। यह एक प्रकार की संक्रामक बीमारी है जो वायरस संक्रमण के कारण फैलती है। आजकल जुखाम होना सामान्य बात हो गई है क्युंकी यह बीमारी लगभग सभी लोगों को हो ही जाती है। मौसम में बदलाव होने पर सर्दी-जुखाम होना आजकल आम बात हो गई है।

सामान्य जुखाम प्रमुख रूप से श्वास नलिका (trachea), साइनस (sinus), ग्रसनी (pharynx)  को अधिक प्रभावित करता है तथा वायरस संक्रमण फैलता है। इसे नैसोफेरिंजाइटिस (Nasopharyngitis), अत्यधिक नज़ला या राइनोफेरिंजाइटिस (Rhinopharyngitis) के नाम से भी जाना जाता है।

º सर्दी-जुकाम क्या है ? (What is Common Cold in Hindi)

Sardi jukam in hindi
Image by Sambeet D from Pixabay
jukam kya hai in hindi 

सर्दी-जुखाम (Common Cold) एक प्रकार का श्वसन तंत्र (Respiratory system) में फैलने वाला संक्रामक रोग (Infectious disease) है जो राइनोवायरस (Rhinovirus) के संक्रमण के कारण फैलता है।

इस बीमारी में रोगी की नाक सबसे अधिक प्रभावित होती है तथा रोगी को नाक से पानी या बलगम बहना (Running nose), छींके आना (Sneezing), बंद नाक (Blocked nose), गले में खराश (Sore throat) जैसी समस्याओं का सामना करना पड़ता है।

यह लोगों में सबसे अधिक होने वाला संक्रामक रोग है जो एक वयस्क व्यक्ति को प्रतिवर्ष लगभग दो से तीन बार तथा छोटे बच्चों में छः से बारह बार होता है। सर्दी-जुखाम मुख्य रूप से ठंडे मौसम में अधिक होता है।

(और पढ़ें – साइनोसाइटिस के घरेलू उपाय)

º सर्दी-जुकाम के लक्षण (Symptoms of common cold in Hindi)

Sardi ke lakshan in hindi  
jukam ke lakshan in hindi  

जुकाम के निम्नलिखित लक्षण हो सकते हैं –

आम लक्षण 

  • नाक बहना
  • नासिकामार्ग अवरुद्ध होना (नाक बंद होना)
  • छींके चलना
  • गले में खराश होना
  • गले में दर्द होना
  • खांसी चलना
  • छींकते समय एक आँख से आंसू आना तथा आँखों में जलन होना

अन्य लक्षण 

  • थकान का आभास होना
  • मांसपेशियों (Muscles) में दर्द होना (myalgia)
  • सिरदर्द होना
  • हल्की-हल्की बुखार आना
  • भूख कम लगना

सर्दी होने पर लगभग 40 प्रतिशत व्यक्तियों को गले में खराश रहती है तथा 50% लोगों को खांसी या गले में कफ और मांसपेशियों में दर्द रहता है। शिशु या छोटे बच्चों में जुकाम के साथ बुखा आना आम बात है। निचले वायुमार्ग से निकलने वाले बलगम का रंग पीला या हरा हो सकता है। बलगम के रंग के आधार पर ही पता चलता है की संक्रमण जीवाणु द्वारा हुआ है या विषाणु द्वारा।

(और पढ़ें – टाइफाइड के घरेलू उपाय)

º सर्दी-जुकाम होने के कारण (Causes of Common Cold in Hindi)

common cold in hindi
Image by Renate Köppel from Pixabay
sardi jukam ke karan in hindi 
सर्दी-जुकाम होने के क्या कारण होते हैं ? सर्दी-जुकाम क्यूँ होता है ? 

सर्दी-जुकाम होने के कई कारण होते हैं किन्तु इसका मुख्य कारण वायरस संक्रमण है। वायरस के संक्रमण के कारण जुकाम होता है जिसमें राइनोवायरस (Rhinovirus) सबसे आम कारण है। लगभग  50% से 80% मामले इसी वायरस के कारण होते हैं।

इसके अतिरिक्त लगभग 10% से 30% मामले कोरोनावायरस (Coronavirus) के कारण होते हैं। इसके अतिरिक्त सर्दी-जुका होने के लिए निम्नलिखित वायरस उत्तरदायी होते हैं –

  • राइनोवायरस (Rhinovirus) लगभग  50% से 80% मामले
  • कोरोनावायरस (Coronavirus) लगभग 10% से 30% मामले
  • इन्फ़्लुएन्ज़ा वायरस (influenza virus) लगभग 5% से 15% मामले
  • Respiratory syncytial virus 
  • अन्य वायरस

इसके अतिरिक्त सर्दी-जुकाम होने के और कई कारण होते है जैसे कि –

  • अचानक मौसम में बदलाव
  • अधिक ठण्ड के कारण
  • ठंडी चीजों का सेवन
  • शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता (Immunity) कम होना
  • गर्म पदार्थों का सेवन करते ही ठंडी चीजों का सेवन करना
  • प्रदुषण वाले क्षेत्रों में रहना
  • सर्दी- खांसी और जुकाम से संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आना

(ये भी पढ़ें – कोरोना वायरस से कैसे बचें)

º सर्दी-जुकाम से बचाव (Prevention of Common Cold in Hindi)

sardi jukam se bachav in hindi 
सर्दी-खांसी और जुकाम से कैसे बचा जा सकता है ?

1 ठण्ड से बचें

सर्दी-खांसी और जुकाम से बचने के लिए ठण्ड से बचना अति आवश्यक है। ठन्डे पदार्थों जैसे – कुल्फी, कोल्डड्रिंक आदि का सेवन करने से बचें।

2 अपने हाथों को अच्छी तरह धोएं 

खाना खाने से पहले या किसी भी खाद्य पदार्थ का सेवन करने से पहले अपने हाथों को अच्छी तरह धोना चाहिए। ऐसा करने से सर्दी-खांसी पैदा करने वाले वायरस आपके शरीर में प्रवेश नहीं कर पाएंगे।

3 सर्दी-जुकाम से संक्रमित व्यक्ति से दूर रहें 

सर्दी-जुकाम से संक्रामक रोग है इसलिए जिस व्यक्ति को पहले से ही सर्दी-खांसी तथा जुकाम हो उससे हमेशा दूरी बनायें रखें।

4 पर्याप्त मात्रा में पानी पियें 

किसी भी बीमारी से बचने के लिए पर्याप्त मात्रा में पानी पीना लाभदायक होता है। सर्दी से बचने के लिए हमेशा ठन्डे मौसम में अधिक-से-अधिक गुनगुना पानी पीना चाहिए ।

(ये भी पढ़ें – सर्दी-जुकाम का इलाज)

5 संक्रमण से बचें 

सर्दी-खांसी और जुकाम से बचने के लिए हमेशा संक्रमण से बचना चाहिए। जब भी वातावरण में परिवर्तन होता है तो विषाणुजनित संक्रमण (viral infection) का खतरा बढ़ जाता है जिसके कारण कई प्रकार के संक्रमण का खतरा हो सकता है जैसे कि – सर्दी होना, नाक बहना, गला ख़राब होना, छींके आना आदि। आपको मौसम में परिवर्तन होने पर ऐसे संक्रमणों से बचना चाहिए।

 6 अकालिक (unseasonable) पदार्थों का सेवन न करें 

जब लोग कई बार बेमौसम (unseasonable) चीजों का सेवन करते हैं तो उनको भी विषाणुजनित संक्रमण का खतरा बढ़ जाता है जिससे सर्दी-जुकाम हो सकता है। जैसे – गर्मी के मौसम में अधिक ठंडी चीजों का सेवन करना, अकालिक फलों एवं सब्जियों का सेवन करना आदि के कारण सर्दी जुकाम हो सकता है । ऐसे में अकालिक खाद्य पदार्थों एवं फलों-सब्जियों का सेवन नहीं करना चाहिए।

7 धुम्रपान से दूर रहें 

8 खांसते या छींकते समय मुंह को अच्छी तरह ढकें 

9 प्रदुषण से दूर रहें 

º सर्दी-जुकाम के घरेलू उपचार (Home Remedies for Common Cold)

सर्दी जुकाम के आयुर्वेदिक उपाय बताइए।  sardi jukam ke gharelu upchar in hindi 

सर्दी-खांसी और जुकाम के घरेलू उपाय निम्नलिखित है –

गर्म पानी पियें 

सर्दी-खांसी एवं जुकाम होने पर गर्म पानी का सेवन करना चाहिए। गर्म पानी पीने से बंद नाक खुल जाती है और ले की खराश भी ठीक होती है। 

नींबू की चाय (Lemon tea)

Lemon tea in hindi
Image by silviarita from Pixabay

जुकाम के उपचार में नींबू की चाय पीना भी लाभदायक होता है। नींबू की चाय बनाने के लिए एक गिलास पानी में चाय की पत्ती डालकर उबालें और उसमे चार से पांच लौंग, तीन काली मिर्च, आधी चम्मच काला नमक, थोड़ी सी अदरक और गुढ़ (स्वाद के अनुसार) डालें तथा इसे तब तक उबालें जब तक यह आधा न रह जाए।

इसके बाद इसे चूल्हे से उतारकर एक नींबू का रस मिलाएं और अच्छी तरह मिलाकर छान लें। इस चाय का सेवन तीन से चार दिनों तक रात को सोते समय करने से सर्दी-खांसी तथा जुकाम ठीक हो जाता है।

ये भी पढ़ें – सर्दी-जुकाम के घरेलू उपाय)

नमक के पानी से गरारे करें 

नमक में एंटीवायरल गुण पाए जाते है जो वायरल इन्फेक्शन को दूर करता है। गुनगुने पानी में नमक डालकर अच्छी तरह मिलाने के बाद सुबह-शाम गरारे करें तथा थोडा सा इस पानी को पियें। नमक के गुनगुने पानी से गरारे करने से सर्दी-जुकाम ठीक हो जाता है।

अदरक और शहद का सेवन

अदरक में कई प्रकार के औषधीय गुण पाए जाते हैं। एक गिलास पानी में अदरक को अच्छी तरह कूटकर डालकर तब तक उबालें जब तक वह आधा न रह जाए और उसे छान लें तथा उसमे एक चम्मच शहद मिलाकर प्रतिदिन दिन में तीन बार पीने से सर्दी-खांसी ठीक हो जाती है।

इसके अतिरिक्त अदरक के छोटे-छोटे टुकड़ों को देशी घी में भूनकर प्रतिदिन दिन में तीन से चार बार इसे पीसकर खाने से सर्दी में आराम मिलता है तथा इससे नाक बहना रुक जाता है।

हल्दी वाला दूध पियें

हल्दी वाला दूध पीने से सर्दी जुकाम ठीक हो जाता है। हल्दीवाला दूध पीने के लिए एक गिलास गर्म दूध में थोड़ीसी शक्कर तथा एक चम्मच हल्दी डालकर अच्छी तरह मिलाएं। इसका सेवन प्रतिदिन शाम को सोने से पहले करें। इससे सर्दी-खांसी ठीक हो जाती है।

लहसुन (Garlic) का सेवन करें

लहसुन में सर्दी-जुकाम को ठीक करने के गुण पाए जाते है। इसमें एलिसिन (Allicin) नामक रसायन पाया जाता है जिसमें  एंटीफंगल,  एंटीबैक्टीरियल और एंटीवायरल गुण पाए जाते हैं जो सर्दी-खांसी के वायरस को नष्ट करता है और जुकाम के संक्रमण को दूर करता है।

इसके लिए लहसुन की कलियों को कद्दूकस (grate) करके उसमें शहद मिलाकर प्रतिदिन दिन में तीन से चार बार सेवन करें। सर्दी-जुकाम में आराम मिलेगा।

ग्रीन टी (Green Tea) पियें 

सर्दी होने पर आप ग्रीन टी भी पी सकते है। ग्रीन टी का सेवन करने से गले की खराश और बहती नाक बंद हो जाती है। इसके लिए आप ग्रीन टी बनाकर उसमे शहद मिलाकर पियें।

गाय के देशी घी का सेवन करें 

गाय के शुद्ध देशी घी का सेवन करने से भी सर्दी-जुकाम ठीक हो जाता है। इसके लिए गाय के घी को अच्छी तरह पिघालकर सुबह के समय दो-दो बूँदें नाक में डालें।तीन से चार महीने तक ऐसा करने से पुराने से पुराना सर्दी-जुकाम भी ठीक हो जाता है।

सरसों का तेल (mustard oil) को नाक में डालें 

सरसों के तेल को प्रतिदिन रात को सोते समय दो-दो बूँदें नाक के दोनों छिद्रों में डालने से सर्दी-जुकाम ठीक हो जाता है। ऐसा करने से नाक से सम्बंधित सभी संक्रमण ठीक हो जाते हैं।

दालचीनी (Cinnamon) का सेवन करें

दालचीनी के प्रयोग से भी सर्दी-जुकाम ठीक होता है। इसके लिए दालचीनी को पीसकर उसमें शहद मिलाकर पेस्ट बना लें। इसका सेवन प्रतिदिन दिन में चार बार करने से सर्दी-खांसी और जुकाम ठीक हो जाता है।

कालीमिर्च (black pepper) का सेवन करें 

सर्दी-खांसी को ठीक करने के लिए कालीमिर्च भी लाभदायक होती है। कालीमिर्च के चूर्ण में शहद मिलाकर इसके पेस्ट का सेवन प्रतिदिन दिन में तीन बार करें। इससे सर्दी-जुकाम में आराम मिलेगा। इसके अतिरिक्त आप एक गिलास गर्म दूध में आधा चम्मक कालीमिर्च के चूर्ण और एक बड़ी चम्मच मिश्री को मिलाकर प्रतिदिन रात को सोते समय इसका सेवन करने से सर्दी-जुकाम ठीक हो जाता है।

जुकाम से राहत पाने के अन्य घरेलू नुस्खे

सर्दी-जुकाम को ठीक करने के लिए आप निम्नलिखित उपाय कर सकते हैं –

  1. तीन गिलास पानी में पचास ग्राम मुनक्के (Raisin) डालकर तब तक उबालें जब तक वह आधा न रह जाए। उसके बाद मुनाक्कों को निकालकर उनका सेवन करें और पानी को भी पियें। इससे सर्दी और बंद नाक ठीक हो जाती है।
  2. सुबह-शाम स्वच्छ गौमूत्र (cow urine) की दो-दो बूँदें डालें।
  3. कलौंजी के बीजों को तवे पे भूनकर एक कपड़े में लपेटकर सूंघे।
  4. अडूसे, कटेरी की जड़, चिरायता (absinthe) और सोंठ को बराबर मात्रा में मिलाकर काढ़ा बनायें और उसका सेवन करें।

º सर्दी-जुकाम का परिक्षण (Diagnosis of common cold in Hindi)

jukam  ka ilaj in hindi  
common cold
image from pixels

सर्दी-खांसी या जुकाम का परिक्षण करने के लिए आपको डॉक्टर के पास जाने की कोई आवश्यकता नहीं होती है। इसका परिक्षण आप स्वयं ही घर पर कर सकते हैं। आपको सर्दी-जुकाम है या नहीं आप इसके लक्षणों के आधार पर पता कर सकते हैं।

यदि सर्दी-जुकाम के लक्षण एक सप्ताह या इससे अधिक दिनों तक रहते हैं तो आपको डॉक्टर को दिखाने की आवश्यकता है। क्यूंकि अधिक दिनों तक ये लक्षण रहने पर आपको नाक या गले से सम्बंधित कोई बड़ी बीमारी होने का खतरा रहता है।

º सर्दी-जुकाम का उपचार (Treatment of common cold in Hindi)

sardi jukam ka ayurvedic upchar in hindi 

सर्दी-जुकाम का कोई विशिष्ट उपचार उपलब्ध नहीं है क्यूंकि सर्दी-जुकाम जिस वायरस के कारण होता है उसका कोई विशेष उपचार नहीं है किन्तु इसके लक्षणों का उपचार करके सर्दी-खांसी या जुकाम से राहत पाई जा सकती है।

यदि किसी व्यक्ति को सर्दी-जुकाम के कारण बुखार या किसी प्रकार का गले या नाक में दर्द हो तो उसे पेरासिटामोल (paracetamol) दी जा सकती है।

इसके अतिरिक्त बंद नाक को खोलने के लिए नाक का स्प्रे (Nasal spray) का प्रयोग कर सकते हैं और कुछ घरेलू उपचारों की सहायता से सर्दी-खांसी तथा जुकाम से राहत पा सकते हैं।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *